मैं विदर्भ का जमाई हूं : विलेन की भूमिका करनेवाले अभिनेता - दीपक शिर्के

February 17,2020

कोई भी फिल्म हम देखने जाते है तो, उसमे कोई ना कोई विलेन होता है

नागपुर : कोई भी फिल्म हम देखने जाते है तो, उसमे कोई ना कोई विलेन होता है । और अगर बीते दौर की हिन्दी फिल्मों के विलेन की बात करे तो वे बहुत ज्यादा प्रसिद्ध और लोकप्रिय होते थे। ऐसे ही कई बॉलीवुड फिल्मों के खतरनाक विलेन का किरदार निभाने वाले दीपक शिर्के संतरानगरी आये थे। वैसे तो बॉलीवुड से तो दीपक शिर्के गायब ही हो गए हैं, लेकिन वह मराठी फिल्मों में काम करते रहते हैं। उनके मुताबिक  ६०-६५  की उम्र में कई लोग सोचते है कि अब लाइफ खत्म हो गई है,लेकिन ऐसा नहीं है यह उम्र बहुत अलग होती है। इस उम्र के बाद व्यक्ति धीरे-धीरे बचपन की ओर जाने लगता है,और जैसी जिंदगी बचपन में जीते है वैसे ही जीना चाहिए। हर पल हर उम्र का बचपन में जी सकते है। ऐसी ही आनेवाली मराठी फिल्म ‘वी आर चिरकुट’ में उम्र पचपन की और दिल बचपन का दिखाया गया है।
तिरंगा फेम और मराठी और हिन्दी फिल्मो के अभिनेता दीपक शिर्के ने शहर में आयोजित पत्रकारो से संवाद साधते हुए यह बात कहीं,तथा अपनी आने वाली फिल्म ‘वी आर चिरकुट’ के बारे में बताया। उन्होने कहा कि मैं विदर्भ का जमाई हूं। फिल्म के सभी कलाकार से विदर्भ से है।आपको बता दें दीपक शिर्के को बॉलीवुड में फिल्म तिरंगा ने पहचान दिलाई थी। यह फिल्म वर्ष १९९९ में आई थी और बॉक्स ऑफिस पर तो यह सुपरहिट रही थी।
बता दे उनके आनेवाली फिल्म में उन्होने एक रिटायर्ड ए. सी.पी. की भूमिका निभाई है। वेब सीरिज का चलन बढ़ गया है इस सवाल के जवाब पर उन्होने कहा कि ऑडियंस हर जगह है। चाहे वह थियेटर हो,नाटक हो,संगीत कार्यक्रम हो या और भी। हर क्षेत्र का एक वर्ग है। वेब सीरिज का रूझान युवाओ को ज्यादा है लेकिन आज ऑडियंस का ऐसा वर्ग है जो नाटक देखना पसंद करता है। आजकल जो भी फिल्में,सीरियल बनाई जाती है,उनमें नई तकनीकियों का इस्तेमाल किया जाता है। मुझे लगता है हर नएपन में नई बात होती है। फिल्म निर्माता भालचंद्र कोहाड़ तथा निर्देशक विजय गुमगांवकर ने बताया यह एक पारिवारिक फिल्म है,फिल्म में विदर्भ के कलाकारो को लिया गया है, और फिल्म की शूटिंग विदर्भ के कई जगह की जाएगी।