आखिर क्यूं देवेंद्र फडणवीस के बार बार फोन करने पर भी उद्धव ठाकरे फोन नहीं उठा रहे?


  • आखिर क्यूं देवेंद्र फडणवीस के बार बार फोन करने पर भी उद्धव ठाकरे फोन नहीं उठा रहे?
    आखिर क्यूं देवेंद्र फडणवीस के बार बार फोन करने पर भी उद्धव ठाकरे फोन नहीं उठा रहे?
    देवेंद्र फडणवीस ने आज दावा किया कि बातचीत के लिए कई बार शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को फोन किया
    1 of 1 Photos

देवेंद्र फडणवीस ने आज दावा किया कि बातचीत के लिए कई बार शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को फोन किया लेकिन उन्होंने फोन का जवाब नहीं दिया. राज्यपाल को इस्तीफा सौंपने के बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए ये बात कही. देवेंद्र फडणवीस ने आज राज्य के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की और अपना इस्तीफा सौंप दिया. 9 नवंबर को मौजूदा सरकार का कार्यकाल खत्म हो रहा है. इसके साथ ही उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों ने भी इस्तीफा दे दिया. क्योंकि सरकार का कार्यकाल खत्म हो रहा है, ऐसे में देवेंद्र फडणवीस का इस्तीफा दिया जाना एक तकनीकि प्रक्रिया है. अभी तक सरकार बनाने को लकर स्थिति साफ नहीं है. उधर खबर है कि बीजेपी नितिन गडकरी के जरिए शिवसेना से बातचीत करने की कोशिश कर रही है. बीजेपी के लिए वे आखिरी उम्मीद हैं कि वे शिवसेना को मना लेंगे.

इस्तीफे के बाद फडणवीस ने कहा कि हमने सभी चुनौतियों का सामना किया और ईमानदारी से सरकार चलाई. उन्होंने कहा, ‘’मैंने राज्यपाल को इस्तीफा दे दिया है. राज्यपाल ने इस्तीफा स्वीकर कर लिया. महाराष्ट्र की जनता का आभार. पांच साल में हमने विकास के लिए कई काम किए. नतीजों में हमें उम्मीद से कम सीटें मिलीं.’’ फडणवीस ने बताया कि राज्यपाल ने उनसे कहा कि जबतक वैकल्पिक व्यवस्था नहीं हो जाती, आप कार्यवाहक सीएम बने रहें.'

फडणवीस ने कहा कि सरकार न बनाना जनादेश का अपमान है. उन्होंने कहा, ‘’सरकार बनाने की कोशिश जारी रखेंगे. हमारे ऊपर खरीद फरोख्त के झूठे आरोप लगाए गए. खरीद फरोख्त का आरोप साबित करें. सरकार नहीं बनाने के लिए माफी मांगता हूं लेकिन अगली सरकार बीजेपी के नेतृत्व में ही बनेगी.’’

50-50 फॉर्मूले पर उन्होंने कहा कि ढाई ढाई साल सीएम पर कोई बातचीत नहीं हुई. फडणवीस ने कहा कि अमित शाह ने भी कहा कि इस पर कोई बात नहीं की. इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘’उद्धव ठाकरे को कई बार फोन किया लेकिन उन्होंने नहीं उठाया. इस बात का दुख नहीं की उन्होंने बात नहीं की, दुख इस बात का है कि उन्होंने एनसीपी से बार बार बात की. चुनाव नतीजों के बाद से शिवसेना ने तय कर लिया है कि वह एनसीपी और कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाएगी. मैंने पांच साल शिवसेना के साथ काम किया.''

इसके साथ ही फडणवीस ने कहा, '' उद्धव ठाकरे के आस-पास के लोग मीडिया में स्पेस लेकर लगातार बयान देते रहे कि वो सरकार बनाएंगे. लेकिन मीडिया में बयान देने से सरकार नहीं बनती. बातचीत हमने नहीं शिवसेना ने रोकी. हम भी करारा जवाब दे सकते थे लेकिन हमने नहीं दिया. बाल ठाकरे का सम्मान करते हैं इसलिए जवाब नहीं देंगे. बाला साहेब ठाकरे के खिलाफ नहीं जा सकते. सामना में हमारे खिलाफ लिखा गया. हमारे नेता नरेंद्र मोदी के खिलाफ व्यक्तिगत हमले हुए.’’



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today

Video Of The Week