देश के नामी वकील रहे राम जेठमलानी का निधन



नागपुर : देश के जानेमाने वकीलों में नामी रहे राम जेठमलानी का रविवार सुबह निधन हो गया। वे ९५ साल की उम्र के थे, जेठमलानी पिछले दो हफ्ते से बीमार चल रहे थे। पता हो जेठमलानी अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केंद्रीय कानून मंत्री और शहरी विकास मंत्री भी रहे हैं। साल २०१० में उन्हें सुप्रीम कोर्ट बार असोसिएशन का अध्यक्ष भी चुना गया था, फिलहाल जेठमलानी आरजेडी से राज्यसभा सांसद भी थे। एक वकील होने के नाते जेठमलानी ने देश के कई बहुचर्चित केस भी लड़े हैं। इनमें कई केस काफी विवादित भी रहे हैं। प्रधानमंत्री ने भी ट्वीट कर जेठमलानी के निधन पर दुख जताया है।
प्रधानमंत्री ने कहा, 'राम जेठमलानी के रूप में देश ने एक शानदार वकील और प्रतिष्ठित व्यक्ति को खो दिया है। उनका योगदान से कोर्ट और संसद दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने कभी भी किसी भी मुद्दे पर अपनी भावनाएं व्यक्त करने में हिचकिचाहट महसूस नहीं की। उनकी सबसे बड़ी खासियत यह थी कि वह सिर्फ अपने मन की बात बोलते थे। उन्होंने बिना किसी डर के ऐसा किया। आपातकाल के दौरान उन्होंने जनता के लिए लड़ाई लड़ी। जरूरतमंद के साथ खड़ा होना भी उनकी बड़ी खासियत थी। मैं अपने आप को भाग्यशाली समझता हूं कि कई मौकों पर उनसे बात करने का मौका मिला। दुख की घड़ी में उनके परिवार, मित्रों और समर्थकों के प्रति मेरी संवेदनाएं। वह आज भले ही यहां न हों, लेकिन उनके किए गए कार्य हमेशा रहेंगे।
साथ ही नागपुर से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने जेठमलानी के निधन पर दुख जताते हुवे कहा की, जेठमलानी मेरे मित्र थे और उन्होंने कई सामाजिक बहुचर्चित केस बिना फ़ीस लिए लड़े हैं, आज देश ने एक अच्छा कर्तृत्ववान वकील को खोया है, भगवान उनकी आत्मा को शान्ति प्रदान करे।  



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today

Video Of The Week