वायुसेना के बेड़े में शामिल हुए आठ अपाचे हेलीकॉप्टर



भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के बेड़े में मंगलवार को आठ अपाचे हेलीकॉप्टर शामिल हो गए हैं। ये हेलीकॉप्टर पंजाब के पठानकोट एयर बेस में तैनात किए गए हैं। वायुसेना में इन हेलीकॉप्टर के शामिल होने के बाद भारत की वायु रक्षा क्षमताओं में काफी बढ़ोतरी हुई है।

अमेरिकन कंपनी बोइंग द्वारा निर्मित अपाचे ए-64 ई हेलीकॉप्टर सबसे उन्नत (लेटेस्ट) वर्जन के हैं और इसे भारतीय वायुसेना की आवश्यकताओं को पूरा करने के साथ इसे मजबूती प्रदान करने के लिए शामिल किया गया है।

पठानकोट में हुए समारोह के दौरान बोइंग ने औपचारिक रूप से एयर चीफ मार्शल बीरेंद्र सिंह धनोआ को हेलीकॉप्टर की चाबी सौंपी।

इस दौरान धनोआ ने कहा, "भारतीय वायुसेना 1954 से हेलीकॉप्टर उड़ा रही है और इसने तब से पीछे मुड़कर नहीं देखा है। हमने विभिन्न अभियानों में अपने आपको साबित किया है। हमने इससे पहले भी विभिन्न प्रकार के हेलीकॉप्टरों का संचालन किया है।"

आठ हेलीकॉप्टरों को दो अलग-अलग चरणों में भारत लाया गया था। गाजियाबाद के हिंडन एयर बेस में जुलाई और अगस्त में चार-चार हेलिकॉप्टर पहुंचे थे।

धनोआ ने कहा, "अपाचे हेलीकॉप्टर एक उन्नत बहु-मिशन हेलीकॉप्टर है जो दुनियाभर में अमेरिका, ब्रिटेन, इजरायल और अन्य कई देशों द्वारा संचालित किया जा रहा है। हेलीकॉप्टर की दुनियाभर में परिचालन के तौर पर सफलता साबित हुई है। यह सबसे भयंकर हमला करने वाले दुनिया के चुनिंदा हेलीकॉप्टरों में से एक है।"

भारत ने 22 अपाचे हेलीकॉप्टरों की खरीद के लिए सितंबर 2015 में बोइंग के साथ अरबों रुपये के एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किए थे। वर्ष 2020 तक सभी 22 हेलीकॉप्टर भारतीय वायुसेना में शामिल हो जाएंगे।



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today

Video Of The Week